UP Assembly Election 2022

UP Assembly Election 2022: बस्ती के स्ट्रॉन्ग रूम के पीछे से वीवीपैट की पर्चियां मिलने से बहुत हड़कंप मच गया है जिससे विपक्ष चुनाव आयोग पर सवाल उठा रहा है

UP Assembly Election 2022: बस्ती में बने स्ट्रॉन्ग रूम के पीछे से वीवीपैट की पर्चियां मिलने से बहुत ज्यादा हड़कंप मच गया है बस्ती के मंडी परिसर में वीवीपैट मशीनों के लिए स्ट्रॉन्ग रूम बनाया गया था जिसके पीछे कुछ बच्चे खेल रहे थे और वह वीवीपैट की पर्चियों को उठा उठा कर ले जा रहे थे जैसे ही उन बच्चों को गांव वालों ने देखा तो वहां पर हड़कंप मच गया और वीवीपैट ईवीएम में गड़बड़ी की आशंका जताने लगे वहां पर एक होमगार्ड उन वीवीपैट की मशीनों की पर्चियों को इकट्ठा करने लगा उसी समय वहां कुछ महिलाएं और कुछ आदमी पहुंच गए उन सभी ने उस होमगार्ड को पकड़ लिया और उसके ऊपर हाथापाई करने लगे उससे पूछने लगे कि यह वीवीपैट की पर्चियां यहां कैसे आई हैं उस भीड़ को देखते देखते वहां पर भीड़ बढ़ती चली गई और यह बात आग तरह चारों तरफ फैल गई जो वीवीपैट की पर्चियां उस होमगार्ड ने उठाई थी उन पर्चियों को वहां के लोग और बच्चे उनसे छीनने लगे जब यह मामला ज्यादा बढ़ता हुआ देखा तो वहां पर पुलिस आ गई

विपक्ष ने उठाए सवाल

UP Assembly Election 2022

जब यह मामला ज्यादा बढ़ता गया तो बहुजन समाज पार्टी के प्रत्याशी आलोक वर्मा, जहीर अहमद, अशोक मिश्रा भी मौके पर पहुंच कर चुनाव आयोग पर सवाल खड़े किए बहुजन समाज पार्टी के प्रत्याशी जाहिर एहमद ने कहा कि इस मामले की जांच होनी चाहिए आखिर यह वीवीपैट की पर्चियां ऐसे फेंकी क्यों गई हैं इससे चुनाव आयोग पर सवाल खड़े होते हैं और यह भी आशंका जताई जाती है कि इस चुनाव आयोग ने निष्पक्षता से चुनाव कैसे कराये होंगे

SDM ने मौके पर पहुँच कर क्या कहा

एसडीएम ने मौके पर पहुंचकर जांच के आदेश की बात कही और उन्होंने कहा कि चुनावों से पहले मॉर्क ड्रिल में मॉर्क पोलिंग कराई जाती है यह उसी की पर्चियां हो सकती हैं लेकिन इन पर्चियों को नष्ट कर देना चाहिए था जो उन्होंने नहीं किया ऐसे इन पर्चियों को इधर-उधर फेंक ना गलत है इसकी जांच होगी जो भी इसमें दोषी पाया जाएगा उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी

इसी दौरान सपा प्रत्याशी महेंद्र यादव भी मौके पर पहुंच गए और उसी समय किसी ने फोन करके बसपा प्रत्याशी डॉक्टर आलोक रंजन को भी बुला लिया उन्होंने मांग की है की जिला अधिकारी इसकी निष्पक्षता से जांच करके दोषियों को सजा मिलनी चाहिए

उसी समय सूचना पाकर अपर जिला अधिकारी अभय कुमार मिश्रा भी मौके पर पहुंच गए लेकिन जब तक सैकड़ों की संख्या में प्रत्याशियों और प्रत्याशियों के समर्थक वहां पहुंच चुके थे और जांच की मांग कर रहे थे अपर पुलिस अधिकारी ने कहा कि यह ट्रायल पर्चियां थी जिनको जला दिया गया था यह वही पर्चियां हैं
जब विपक्ष ने सवाल खड़ा किया कि यह पर्चियां एक ही पार्टी की क्यों है कांग्रेस और भाजपा की क्यों नहीं है जब लोगों ने अपर पुलिस अधिकारी से यह सवाल किया तो अपर पुलिस अधिकारी वहां से चलते बने उन्होंने इस बात का कोई जवाब नहीं दिया इस बात से आशंका जताई जा रही है कि चुनाव आयोग निष्पक्ष तरीके से चुनाव नहीं करा रहा है विपक्ष ने इसमें निष्पक्ष जांच की मांग की है।

इसे भी पड़े। 

UP Election 2022 मायावती ने भाजपा और सपा दोनों ही पार्टियों पर साधा निशाना भाजपा के साथ गठबंधन पर कहीं यह बड़ी बात

Up election 2022 भाजपा की नेता समाजवादी पार्टी का कर रही थी प्रचार सोशल मीडिया पर वायरल हुआ वीडियो