Toll tax

Toll tax ना देने वाले वाहनों की नई सूची जारी अब 25 लोगों को नहीं देना होगा Toll

Toll tax  :New Delhi: अब हम कहीं भी गाड़ी लेकर जाते हैं तो सबसे बड़ी टेन्सन ( Toll Tax ) की होती है जैसे ही हम 10 या 15 किलोमीटर दूर चलते हैं Toll Tax देना पड़ता है
केन्द्र सरकार ने Toll Tax को लेकर नई गाइडलाइंस बनाई हैं जिस मैं कुछ केटेगरी को बढ़ाया गया है इस केटेगरी मैं 25 पद के लोगों को शामिल किया गया है
अब अगर हमको दिल्ली से अलीगढ़ जाना हो तो 2 बार Toll Tax देना पड़ता है अगर हमको noida से Lucknow जाना पड़े तो हमको 2 बार Toll Tax देना पड़ता है
लेकिन अब 25 लोगों को इसकी चिन्ता नहीं होगी जिस मैं सरकारी अधिकारियों को और सांसद और विधायक सामिल हैं और लाश लेजाने वाली गाड़ियों से भी टोल टैक्स नहीं लिया जाता है

टोल नाके पर सभी गाड़ियों का गाड़ियों के हिसाब से अलग अलग शुल्क देना पड़ता है जो बड़ी गाड़ियां होती हैं उनसे ज्यादा टेक्स वसूला जाता है जैसे बस ट्रक जैसी गाड़ियों से ज्यादा टोल टेक्स लिया जाता है और कार से कम टोल टैक्स लिया जाता है अब लोग बाग बहुत ही टोल टैक्स की चोरी भी कर लेते हैं जैसे बड़े वाहनों पर छोटे वाहन का फास्टट्रैक लगा लेते हैं और गाड़ी पार कर लेते हैं जिससे सरकार को इसका बहुत नुकसान उठाना पड़ता है और अब फास्टट्रैक लगाना सरकार ने कम्पलसरी कर दिया है जो इसको नहीं लगवायेगा उसको डबल Toll tax देना पड़ेगा

ये हैं वो 25 श्रेणी जिनको Toll Tax नहीं देना पड़ेगा

 

अब अगर देखा जाये तो देश के सभी हाइवे और रोडों पर टोल टैक्स देना ही पड़ता है जिस मैं सरकार ने 25 ऐसे लोगों की लिस्ट जारी की है जिनको टोल टैक्स नहीं देना पड़ेगा
अभी तक 9 श्रेणी के लोगों को टोल टैक्स नहीं देना होता था लेकिन अब इसको बड़ा कर 25 कर दिया है अब 25 लोगों को टोल टैक्स नहीं देना पड़ेगा

इन्हें मिली है Toll Tax मैं छूट

अब इन गाड़ियों से टोल टैक्स नहीं लिया जायेगा राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, सांसद, विधायक, और जज मजिस्ट्रेट जैसे बड़े बड़े अधिकारियों के नाम शामिल हैं निजी यात्रा के दौरान भी टोल टैक्स का भुगतान नहीं करना पड़ता है इनको और इसके अलावा शव वाहन, रक्षा, पुलिस , फायर फाइटर, एम्बुलेंस, चुनिन्दा राज्य और केन्द्र सरकार के अधिकारी, मजिस्ट्रेट, सचिव, और विभिन्न विभागों के सचिव, राष्ट्रीय राजमार्गों के अधिकारी सामिल हैं राज्य मार्गो पर छूट दी जाने वालों की उनकी अपनी सूची होती है

फास्टैग लगा कर टोल टैक्स की होती है चोरी

15 फरबरी 2021 से केन्द्र सरकार ने फ़ास्ट टेग जरूरी कर दिया है अब बहुत लोग बड़ी गाड़ियों पर जैसे बस ट्रक जैसी गाड़ियों पर कार जैसी छोटी गाड़ियों का फास्टट्रैक लगा कर घूम रहे हैं जिससे सरकार को करोड़ों का घाटा हो रहा है क्योंकि बड़े वाहन का ज्यादा चार्ज लगता है और छोटे वाहन का कम चार्ज लगता है इसी वजह से सरकार को बहुत नुकसान झेलना पड़ रहा है इस विषय पर सरकार विचार कर रही है इसके लिये भी कोई कार्यवाही करी जायेगी जिससे लोग चोरी ना कर सकें

Arvind negi Arrest IPS

सावधान! खतरे के खतरे के लिए खतरनाक है कोरोना का संकट