Rahul Gandhi ED Enquiry

Rahul Gandhi ED Enquiry: राहुल गाँधी से सोमवार को करीब 10 घंटे पूछताछ हुई। राहुल से हुई लंबी पूछताछ से कांग्रेस बिफर उठी है। उसने इसे लेकर देशव्यापी प्रदर्शन करने की बात कही है।

नेशनल हेराल्ड मामले में कांग्रेस नेता राहुल गांधी से आज लगातार दूसरे दिन भी प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) की पूछताछ होगी। राहुल से सोमवार को करीब 10 घंटे पूछताछ हुई। वह रात 11.10 बजे ईडी दफ्तर से घर के लिए रवाना हुए। इस दौरान ईडी दफ्तर के बाहर कांग्रेसियों की भीड़ लगी रही। सोमवार को राहुल से पहले सुबह पहले राउंड में तीन घंटे तक ईडी ने सवाल पूछे। इसके बाद लंच ब्रेक के दौरान राहुल सोनिया गांधी से मिलने अस्पताल पहुंचे। यहां से एक फिर वे ईडी दफ्तर पहुंचे, जहां उनसे दूसरे दौर की पूछताछ हुई।

अपने समर्थकों के साथ राहुल गाँधी ED दफ़्तर पहुंचे

सात एसयूवी के काफिले में राहुल गांधी ईडी दफ्तर पहुंचे थे। प्रियंका गांधी वाड्रा उनके साथ एक ही गाड़ी में बैठी थीं। वर्ष 2019 में एसपीजी सुरक्षा वापस लिए जाने के बाद से राहुल जेड प्लस सुरक्षा घेरे में रहते हैं। वहीं, दिल्ली में अशोक गहलोत, मल्लिकार्जुन खरगे, जयराम रमेश, दिग्विजय सिंह, रणदीप सुरजेवाला समेत कई नेेताओं को विरोध के दौरान हिरासत में लिया गया। इनमें 26 सांसद और 5 विधायक शामिल हैं।
कांग्रेस नेताओं ने इसे लेकर केंद्र सरकार और भाजपा को निशाने पर लेते हुए कहा कि सरकारी एजेंसियों का जमकर दुरुपयोग हो रहा है। सूत्रों के मुताबिक, रात को हुई कांग्रेस की बैठक में न सिर्फ सोमवार को हुई राहुल गांधी से हुई लंबी पूछताछ और देशभर में हुए प्रदर्शन को लेकर चर्चा हुई। बल्कि इस बात को लेकर निर्णय लिया गया कि पार्टी अब इस सत्याग्रह को गांव-गांव तक ले जाएगी।

अशोक गहलोत ने भाजपा-आरएसएस पर लगाए आरोप कहा इन लोगों ने लूट मचा रखी है

राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत ने कहा कि कांग्रेस पार्टी आज भी सड़कों पर उतरेगी। कानून सबके लिए समान है, लेकिन रात 12 बजे तक किसी से सवाल करना गलत है। कौन सा अपराध या धनशोधन हुआ है? जहां खरबों की लूट होती है, वे नहीं पूछते। भाजपा के हों या आरएसएस के, सबने लूट मचा रखी है, उसकी तरफ इनका ध्यान नहीं जा रहा है। प्रधानमंत्री आगे आकर महंगाई, बेरोजगारी, तनाव, हिंसा पर संबोधित करें।

वहीं, कांग्रेस सांसद दीपेंद्र एस हुड्डा ने कहा कि ईडी जिस तरह से इस मामले को संभाल रही है, राहुल गांधी से जितने घंटे पूछताछ की गई और कल फिर से बुलाया गया, यह राजनीतिक प्रतिशोध के एजेंडे की गंध है। राहुल गांधी और कांग्रेस की आवाज इन कार्रवाइयों से शांत नहीं होगी।

ED ने क्या बात की राहुल गाँधी से

प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने सोमवार को नेशनल हेराल्ड केस से संबंधित मनी लॉन्डि्रंग मामले में पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से दो सत्रों में साढ़े दस घंटे तक पूछताछ की। ईडी की जांच राहुल-सोनिया और पार्टी के चुनिंदा नेताओं के स्वामित्व वाले यंग इंडियन में वित्तीय अनियमितताओं पर केंद्रित रही। दूसरी तरफ, कांग्रेस ने सरकार पर ईडी के दुरुपयोग का आरोप लगाते हुए देशभर में जांच एजेंसी के दफ्तरों के बाहर विरोध प्रदर्शन किया व नेताओं-कार्यकर्ताओं ने गिरफ्तारी दी।

ईडी के समन पर राहुल बहन प्रियंका वाड्रा, राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत, छत्तीसगढ़ के सीएम भूपेश बघेल और पूर्व वित्तमंत्री पी चिदंबरम समेत बड़ी संख्या में नेताओं और कार्यकर्ताओं के साथ कांग्रेस मुख्यालय से सुबह 11.10 बजे एजेंसी के मुख्यालय पहुंचे। कानूनी औपचारिकताओं के बाद साढ़े ग्यारह बजे के करीब राहुल से पूछताछ शुरू हुई। मंगलवार को भी राहुल को तलब किया है।

पहले चरण में कांग्रेस सांसद से करीब तीन घंटे पूछताछ की गई। बताया जा रहा है कि धनशोधन रोकथाम कानून की धारा 50 के तहत राहुल ने बयान लिखकर दर्ज कराया। सहायक निदेशक स्तर के अधिकारी के नेतृत्व में ईडी की टीम ने राहुल से यंग इंडियन के गठन, कंपनी में उनकी भूमिका, नेशनल हेराल्ड के संचालन, एसोसिएटेड जर्नल्स लि.  को कांग्रेस द्वारा दिए कर्ज और समाचार पत्र संस्थान के अंदर पैसे के लेन-देन से जुड़े कई सवाल पूछे। यंग इंडियन, नेशनल हेराल्ड अखबार प्रकाशित करने वाली एसोसिएट जर्नल्स की मालिक है। दोपहर 2.10 बजे राहुल को भोजन के लिए जाने की अनुमति दी गई। ईडी ने 3.30 बजे उन्हें फिर बुलाया, रात 11ः10 बजे तक पूछताछ हुई।

अधिकारियों ने बताया, ईडी मामले से संबंधित कंपनियों के शेयर होल्डिंग पैटर्न, वित्तीय लेन-देन और यंग इंडियन के प्रवर्तकों की भूमिका को समझने का प्रयास कर रही है।सोनिया-राहुल के यंग इंडियन में 38-38 फीसदी शेयर हैं। अन्य शेयर धारकों में गांधी परिवार के करीबी सुमन दुबे व सैम पित्रोदा शामिल हैं।