Dirty Police

 खुद महिला एसएसपी होकर भी गया मैं 6 महिलाओं सहित एक नाबालिक बच्ची के हाथ बांधकर ऐसी बर्बरता नहीं देखी

Dirty Police :उत्तर प्रदेश सरकार के द्वारा महिलाओं की सुरक्षा को लेकर और उनके सहयोग को लेकर बहुत दम भरा जा रहा है लेकिन सच्चाई कुछ और ही है गया की एसएसपी खुद एक महिला होते हुए उन्होंने 13 साल की एक बच्ची सहित 6 और महिलाओं के पीछे हाथ बांधकर घंटों जमीन पर बैठा कर रखा

उसके बाद उन सभी महिलाओं को और उस 13 साल की नाबालिग बच्ची को जानवरों की तरह एक ट्रेन में भरकर कोर्ट लाया गया कोर्ट में आदेश दिया कि उनको दाउदनगर Quarantine Center ले जाया जाए और पुलिस ने उस 13 साल की नाबालिक बच्ची को भी बालिक बना दिया है गया कि एसएसपी साहिबा को 13 साल की नाबालिक बच्ची पर भी तरस नहीं आया और उसको भी Quarantine center ले गये।।Dirty Police

क्या था मामला

बेलागंज के आडतपुर गांव मैं मोरहर नदी पर बंदोबस्त घाट पर सीमांकन करने गयी थी और वहां के गांव के लोग बालू के उठाने का विरोध कर रहे थे उसी समय पुलिस ने ग्रामीणों के ऊपर लाठी चार्ज कर दी और लाठी चार्ज होने के बाद ग्रामीणों ने भी पुलिस बल के ऊपर पथराव शुरू कर दिया

दोनों तरफ से पथराव और लाठीचार्ज होता रहा जिसमें 6 महिलाएं और एक 13 साल की बच्ची को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया

जिस मैं पूजा कुमारी ( 20 ) गीता देवी, ( 38 ), रेढू देवी ( 42 ), मुन्नी देवी ( 32 ), रंजू देवी ( 32 ), और 13 वर्षिय नाबालिक बच्ची को भी गिरफ्तार कर लिया और इन सभी के साथ एक पेशेवर अपराधी की तरह व्यवहार किया गया

दिनांक को घंटों तक जमीन पर बैठाकर वनों के ऊपर अत्याचार किया गया जिसके बीच में एक 13 साल की नाबालिक लड़की भी थी और जब इसी विषय में पुलिस से पूछा गया तो उन्होंने बताया कि इसमें कोई भी नाबालिक लड़की नहीं है

और जब उसका लड़की का आधार कार्ड चेक किया गया तो उसमें उसकी डेट ऑफ बर्थ 12 जुलाई 2008 है लेकिन पुलिस ये मानने को तयार नहीं है पुलिस के द्वारा की गई ऐसी बर्बरता बहुत गलत है। Dirty Police